By : Abhishek mishra   |   29-06-2018    |    Views : 000208



US के आंख दिखाने पर ईरान से तेल व्यापार 'शून्य' करेगा भारत


अमेरिकी सरकार की ओर से लगाए गए प्रतिबंधों के बाद भारत ने अब ईरान से कच्चे तेल का आयात घटाने के संकेत दिए हैं. ऐसी स्थिति में भारत में कच्चे तेल की भारी कमी हो सकती है, हालांकि सरकार ने इसके लिए 'प्लान बी' की तैयारी शुरू कर दी है. सरकार के अधिकारियों और उद्योगपतियों ने जानकारी दी कि अमेरिका की ओर से ईरान पर नए सिरे से प्रतिबंध लगाए जाने के मद्देनजर भारत वहां से कच्चे तेल की खरीद घटाने पर विचार कर रहा है. भारत ने ईरान से कच्चे तेल का आयात घटाने का संकेत दिया है. बदले में वह प्लान बी के तहत सऊदी अरब और कुवैत से कच्चे तेल की खरीद बढ़ाएगा.अमेरिका ने भारत, चीन सहित दुनिया के सभी देशों से चार नवंबर तक ईरान से कच्चे तेल की खरीद पूरी तरह बंद करने को कहा है. हालांकि, अभी इस पर कोई अंतिम विचार नहीं बनाया गया है, लेकिन पेट्रोलियम मंत्रालय ने रिफाइनरी कंपनियों से सतर्कता बरतने और अन्य विकल्पों पर विचार करने को कहा है. भारत और ईरान के बीच वर्षों से अच्छे संबंध रहे हैं. चाबहार पोर्ट प्रोजेक्ट पर दोनों देश एक साथ काम कर रहे हैं और भारत की चुनौती इसके जरिए दोस्ती बनाए रखने की होगी. भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच चाबहार बंदरगाह पिछले साल 3 दिसंबर को खोल दिया गया. ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने इस रणनीतिक ट्रांजिट रूट के पहले फेज का उद्घाटन किया. सामरिक नजरिये से देखा जाए तो पाकिस्तान और चीन के ग्वादर पोर्ट के रूप में चाबहार को भारत का करारा जवाब है.