By : Abhishek mishra   |   20-07-2018    |    Views : 000159



बुझ गया हिंदी का सितारा


अपने गीतों से सभी को मंत्रमुग्ध करने वाले मशहूर गीतकार गोपालदास नीरज ने गुरुवार की शाम दिल्ली में एम्स अस्पताल में अंतिम सांस लेकर दुनिया को अलविदा कह दिया. दुनिया को रुखस्त करते हुए नीरज ऐसा काम कर गए जिन्हें गीतों के अलावा भी हमेशा याद किया जाएगा. नीरज ने अपनी मृत्यु से पहले अपने अंगदान करने की घोषणा कर दी थी. उनकी अंतिम इच्छा के अनुसार एम्स के डॉक्टर शुक्रवार की सुबह अंगदान की क्रिया पूरी करेंगे. इसके बाद उनका पार्थिव शरीर अलीगढ़ ले जाया जाएगा, जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. 'जितना कम सामान रहेगा, उतना सफ़र आसान रहेगा, जितनी भारी गठरी होगी, उतना तू हैरान रहेगा' जी हां, गोपालदास नीरज ने ये शब्द बस अपनी रचनाओं में पिरोए ही नहीं बल्कि उन्हें जीवन में उतारा भी. और इस दुनिया से जाते-जाते दिखा दिया कि उनके शरीर पर समाज का भी अधिकार है बराबर. नीरज ने अपने अंगदान करके अपनी कही हुई बातों को साबित भी कर दिया और जीवन के अंतिम सफर को आसान कर दिया.