By : Abhishek Mishra   |   04-11-2018    |    Views : 0005211



धरती का बढ़ता रहा बुख़ार तो आएगा महाप्रलय!


धरती का बढ़ता रहा बुख़ार तो आएगा महाप्रलय!  जी हां तीन साल के गहन शोध और एक हफ़्ते तक दक्षिण कोरिया के इंचियोन शहर में तमाम सरकारों के प्रतिनिधियों के साथ मंथन और बहस के बाद आला वैज्ञानिकों ने ऐसी ही आशंका जाहिर की है. वैज्ञानिकों ने इसे 'आखिरी चेतावनी' बताया है और इसे संयुक्त राष्ट्र के इंटरगर्वनमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज यानी आईपीसीसी ने रिपोर्ट की शक्ल में जारी किया है. इसमें कहा गया है कि ख़तरे को कम करने के लिए तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेंटीग्रेट से कम पर रोकना होगा और इसके लिए अगले 12 साल यानी 2030 तक बहुत कुछ बदलना ज़रूरी है. लंदन में मौजूद बीबीसी के पर्यावरण संवाददाता नवीन सिंह खड़का के मुताबिक ये रिपोर्ट आगाह करती है कि स्थितियां नहीं बदलीं तो दुनिया के कई हिस्सों में हालात भयावह हो जाएंगे."अगर तापमान इसी हिसाब से बढ़ता गया तो जीना हराम हो जाएगा. ख़ास तौर पर जो ग़रीब मुल्क हैं और टापू देश हैं और आर्कटिक में लोग रह नहीं पाएंगे. जी नहीं पाएंगे."