By : Abhishek mishra   |   21-06-2018



अब पीएफ खाते से नहीं निकाल सकेंगे पूरी रकम!


ईपीएफओ से उन कर्मचारियों को झटका लग सकता है, जो पीएफ के पूरे पैसे निकालकर घर, गाड़ी खरीदने समेत कोई अन्‍य बड़ा काम करने की सोच रहे हैं। ईपीएफओ की चली तो जल्‍द आप अपने कुल जमा पैसे से महज 60 फीसदी रकम ही निकाल पाएंगे। यह नियम जिनकी नौकरी चली जाती है, उन पर भी लागू होगा। यानी नौकरी जाने के बाद भी आप अपने पीएफ अकाउंट से पूरे पैसे नहीं निकाल पाएंगे। जीएफक्स : सिर्फ 60 फीसदी रकम की निकाल सकेंगे हाल के वर्षों में बड़ी संख्‍या में ईपीएफओ सब्‍सक्राइबर्स द्वारा अपने पीएफ अकाउंट की पूरी रकम निकालने के कारण संगठन की चिंता बढ़ गई है। ईपीएफओ ने प्रस्‍ताव दिया है कि जो लोग प्राइवेट सेक्‍टर में काम करते हैं और फॉर्मल सेक्‍टर के हिस्‍से हैं, उन्‍हें कुल जमा राशि का महज 60 फीसदी निकालने की ही अनुमति दी जाए। इस प्रस्ताव पर ईपीएफओ के बोर्ड ऑफ ट्रस्टी की बैठक 26 जून को होनी है। जीएफएक्स : प्रस्ताव की मंशा आर्थिक सुरक्षा को बढ़ाना इए प्रस्ताव के पीछे मंशा है लोगों की आर्थिक सुरक्षा को बढ़ाना। माना जा रहा है कि बदलते परिवेश में नौकरी जाने की स्थिति में अगर कोई शख्स पूरा पैसा अपने पीएफ अकाउंट से निकाल लेता है तो उसका अकाउंट डेड हो जाता है और जब वह दोबारा नौकरी शुरू करता है तो फ्रेश अकाउंट होता है। ऐसे में उसे पीएफ अकाउंट के तहत मिलने वाली पेंशन का फायदा नहीं मिल पाता है। पेंशन पाने के लिए लगातार 10 साल तक पीएफ अकाउंट का चालू रहना और उसमें पैसे जमा होना जरूरी है। सरकार की कोशिश है कि व्यक्ति की सदस्यता न खत्म हो। उसके अकाउंट में पैसे पड़े रहेंगे जिस पर ब्याज आता रहेगा। उस रकम को बाद में सेवानिवृत्ति खाते में डाल दिया जाएगा, जिससे उसे मिलने वाली पेंशन की रकम में रुकेगी भी नहीं, बल्कि इसमें इजाफा ही होगा। जीएफएक्स : प्रस्ताव को लागू करना आसान नहीं हालांकि 26 जून की बैठक में अगर इस बारे में व्यापक नियम कानून बनाया जाएगा और इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है तो भी इसे लागू करना इतना आसान नहीं होगा, क्योंकि श्रम एवं रोजगार मंत्रालय को ईपीएफ योजना 1952 में बदलाव करने होंगे।